A story of Bheem-भीम का एक कहानी-Hindi Kahani

 A story of Bheem-भीम का एक कहानी-Hindi Kahani

Bheem


एक गाँव मे भीम नामक बहत मोटा आदमी रहता था । वो इतना मोटा था बीस जन का खाना अकेला खा लेता था । उसके खाना खाने को देख कर घर के लोक बाहत परिशान थे क्यूँकी Bheem कमाता कुछ नहीं सिर्फ खाता अर सोता रहता था  । एक दिन उसका पिताजी बोले बीटा हम अर तुम को खाना दे नहीं पाएंगे तू तो कुछ कमाता नहीं सिर्फ खाता रहता है काहां से लाएंगे इतना खाना,आज से तू कमा अर खा । ये सुन के भीम दुखी हो गया अर समझदार भी था इसिलए बुरा ना मान के नौकरी की तलाश मे सहर की तरफ चलने लगा अर नौकरी केलिए इधर उधर भटकने लगा पर क्या करे उसका साइज़ का जॉब मिलना मुस्किल था । फिर भी कोशिश करने लगा । भीम को लोग देखके बहत हसते थे अर छेड़ते थे क्यूँकी बो बहत मोटा था ।

भीम को सहर के रास्ते मे रात बिताना पड़ता था । एक दिन रात मे कुछ चोर चोरी करके भाग रहे थे Bheem देखा तो उनको पकड़ लिया अर पोलिस स्टेशन को ले गया । इसकी काम देख के थाना अधिकारी बहत खुश हुए अर रात का चौकीदार बना दिए । भीम पेट भर के खाना खाता था रात भर जगता अर दिन भर सोता था । बो अपना काम से खुश था ।

Bheem के काम को देख के चोर गुंडा लोक नाराज थे बो सोचने लगे केसे भी करके भीम को अपना रास्ते से हटाया जाए अर भीम के ऊपर गोलाबारूद का प्रयोग की । जिसके कारण भीम को चोट आई फिर भी बो गुंडा लोगों को पकड़ लिया इसके बाद सरकार ने खुश होके भीम का बहत प्रसंसा किया अर उसे एक बडा पोस्ट मे नियुक्त करदीआ । अभि तो भीम बहत बदलचूका है अभि  बो अपना सहद प्रति ध्यान दे कर खाना पीना भी control से कर राहा हे क,अर एक अच्छी सी लडकी को सादी करके आराम से अपना जीबन बीता राहा है ।

Post a Comment

0 Comments